Full Form Of RTO In Hindi | RTO meaning in Hindi | How to become RTO officer

नमस्कार दोस्तों आज के इस post में आपको full form of rto in hindi के बारे में जानकारी देने वाले हैं आम जिन्दगी मे हम हमेशा कई बार ये शब्द सुनते हैं। शायद बोलते भी हैं पर बहुत से लोग हैं।

दोस्तों आप सभी लोग देखे होगें की कोई भी गाडी के पीछे एक number plate होता है और उसके उपर एक unique identity code होता है जिसे यह RTO office के द्वारा दिए जाते है।

भारत देश में लाखों प्रकार के full form का प्रयोग होता हैं इसके बारे मे आप जानते ही हैं वे BUS भी उसमे से ही एक हैं हर व्यक्ति को full form of rto in hindi क्या हैं इसका पता होना बहुत जरुरी हैं क्युँकि भविष्य मे कई बार इस श्ब्द का उपयोग होता हैं।

Full Form Of RTO In Hindi | RTO meaning in Hindi | How to become RTO officer
Full Form Of RTO In Hindi | RTO meaning in Hindi | How to become RTO officer

What is the full form of rto in Hindi

RTO का फुल फॉर्म Regional Transport Office होता है, और इसको हिंदी में क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय कहते है।

RTO का कार्य Transport से जुडी हुई हर चीज़ का ध्यान रखना होता है. भारत के सभी जिलो में RTO के office पाए जाते है और इन सभी को अपना एक Code दिया जाता है।

अगर आपने किसी गाड़ी को जाते हुए देखते हो तो उसके पीछे आपको एक Special और Unique Number जो उसकी Number Plate पे लिखा हुआ देखे होगा है ये Number RTO द्वारा दिया जाता है।

अगर आप Numbers के सही Codes की जानकारी रखते हो तो आपको उस गाड़ी की काफी हद तक जानकारी प्राप्त हो जाती है. आपको गाड़ी Number से राज्य तथा जिले की भी जानकारी आसानी से मिल जाती है।


RTO Full Meaning In Hindi

अगर हम किसी भी गाडी के पीछे लगा हुआ number plate को जांच करते हैं तो हमको बडी ही आसानी से उस particular गडी का मालिक (owner) कौन है और उस गाडी कौन सी जिले की है उसके बारे में पता लग जाती है।

दोस्तों यह RTO office में भारत का कोई भी वाहन उपभोक्ता अपने गाडियों का registration करवाता है और यह हर एक वाहन उपभोक्ता के लिए काफी जरुरी होता है।

आज के समय में तो अच्छे से पता है की काफी सारे लोग second hand गाडी खरिदते हैं ऐसे में मान के चलो यदि हम किसी भी गाडी को कुछ दिन चलाते हैं और बाद में उसे बेचते हैं तो उस गाडी का पेपर हमारे नाम से होता है।

उसे खरीदने वाले व्यक्ति के नाम पर transfer करना होता है और यह RTO office के द्वारा किया जाता है। दोस्तों RTO office में ना ही सिर्फ गाडियों का registration किया जाता है। 

इसके अलावा भी ओर कई सारे काम होता है जिससे यह RTO office के द्वारा किया जाता है, तो चलिए अब हम उसके बारे में जानने हैं| 



RTO के क्या क्या प्रमुख कार्य होते हैं

अगर कोई व्यक्ति नया वाहन खरीदता है तो उसे RTO Office जाकर वाहन के कुछ जरुरी कागजात बनवाने पड़ते हैं।

RTO के कार्यालय में न सिर्फ गाडियों का Registration होता है बल्कि गाडियो को चलाने वाले चालक का Driver’s Licences भी बनाया जाता है. RTO इसके साथ ही Road Tax की भी वसूली करता है. RTO के कार्यो मे गाडियों का Insurance और इनकी प्रदुषण की परीक्षण भी शामिल होता है।

  • Insurance (बीमा)

  • Pollution Test (प्रदूषण टेस्ट)

  • Driving Licence(ड्राइविंग लाइसेंस)

  • Vehicle Registration (वाहन पंजीकरण)


1. Insurance = RTO के द्वारा वाहनों का insurance भी प्रदान करना किया जाता है. अगर आप अपने वाहन का बीमा करवाना चाहते हैं, तो आपको आरटीओ कार्यालय जाना होगा. हालांकि इसके अलावा रोड टैक्स, गाड़ियों की फिटनेस आदि सभी काम भी RTO के अंतर्गत ही किये जाते हैं।


2. Pollution Test = RTO के द्वारागाड़ियों का Pollution Level Test किया जाता है. अगर कोई वाहन ज्यादा प्रदूषण कर रहा है तो RTO उसका लाइसेंस रद्द कर सकता है।


3. Driving Licence = RTO एक डेटाबेस को नियंत्रण करता है जिसमें वाहन और ड्राइवर से संबंधित जानकारी होती है. Driving Licence देना RTO का काम होता है. RTO कुछ Driving Test लेने के बाद वाहन धारक को Driving Licence प्रदान करता है।

4. Vehicle Registration =  Registration Number प्रत्येक वाहन मालिक के लिए अनिवार्य है क्योंकि बिना नंबर के वाहन चलाना कानूनी अपराध है. RTO Office में नए वाहनों के Registration कराये जाते हैं और गाड़ी को एक Number दिया जाता है।


राज्यों के अनुसार RTO Codes

सभी राज्य में RTO officer होता है और हर एक RTO के लिए एक unique code होत है| 

जिस भी व्यक्ति को RTO के बारे में जानकारी है तो वो व्यक्ति किसी भी गाडी के पीछे लगा हुआ number plate को देख के पता लगा सकता है की आखिर वो गाडी कौन सी राज्य का है और कौन से जिले का है| 

किसी भी गाडी के पीछे number plate में जरूर देखा होगा की 2 alphabet लिखा होता है और वो दो alphabet राज्यों के हिसाब से होता है।

गाडी के number plate कुछ इस तरह से होता है “AA-00-A-0000”


State के अनुसार RTO Code List 

  • Arunachal Pradesh = AR

  • Chhattisgarh = CH

  • Haryana = HR

  • Jharkhand = JH

  • Madhya Pradesh = MP

  • Meghalaya = ML

  • Odisha = OD

  • Sikkim = SK

  • Uttarakhand = UK

  • Andaman and Nicobar Islands = AN

  • Daman and Diu = DD

  • Pondicherry = PY 

  • Andhra Pradesh = AP

  • Bihar = BR

  • Delhi = DL

  • Gujarat = GJ

  • Assam = AS

  • Jammu and Kashmir = JK

  • Goa = GA

  • Kerala = KL

  • Himachal Pradesh = HP

  • Manipur = MN

  • Karnataka = KR

  • Nagaland = NL

  • Maharashtra = MH

  • Rajasthan = RJ

  • Mizoram = MZ

  • Tripura = TR

  • Punjab = PB

  • West Bengal = WB

  • Tamil Nadu = TN

  • Dadra and Nagar Haveli = DN

  • Uttar Pradesh = UP

  • Lakshadweep = LD

  • Chandigarh = CH


How to become RTO officer | आरटीओ ऑफिसर कैसे बन सकते हैं

यहां पर अब हम जानने वाले हैं की आगर आप RTO officer में job करना चाहते हो तो ऐसे में कौन कौन सा post होता है? 

RTO officer में देखा जाए तो basically बहुत प्रकार का job होता है लेकिन सबसे ज्यादा तर 3 post निकलता है| 
  • Clerk post

  • Assistant engineer post

  • Judicial post

ये तीन post है जिसे आप RTO में कर सकते हो।


RTO Officer के लिए योग्यता?

दोस्तों यह RTO officer बनने के लिए किसी भी प्रकार का बहुत बड़ा degree की जरुरत नहीं है, आगर आप सिर्फ 10th pass हो फिर भी यह job को कर सकते हो| 

आगर आप RTO में high post प्राप्त करना चाहते हो तो आपका योग्यता Recognised university से Graduation complete होना चाहिए| 

यह RTO post में पुरुष और महिला दोनों ही आवेदन कर सकते हैं|


RTO Post के लिए Qualification:- 

RTO post में सबसे ज्यादा तर पॉलीटेकनिकल के मकैनिकल, ओन्ली इंजीनियरिंग या ऑटमोबाईल के छात्रों को लिया जाता है क्योंकि यह RTO Officer एक यातायात को नीयनत्रण करने वाला कार्यालय काम होता है।

RTO post में आवेदन करना चाहते हो तो ऐसे में आपका आयु सीमा 21 से लेकर 30 साल तक होना चाहिए।

OBC उम्मीदवारों के लिए 3 साल तक छूट होती है और ST/SC के लिए 5 साल तक होता है।


RTO Officer कैसे बने इन हिंदी? 

RTO में ऐसे काफी सारे post निकलते रहते हैं और वो सीधे राज्य सरकार के द्वारा post निकलते है।

RTO post के लिए आवेदन करना बहुत ही आसान होता है और आगर आप थोड़ा बहुत भी automobile technical या फिर engineering के field हो तो आपको job में select होना थोड़ा आसान हो जाता है।

RTO post में आवेदन करने के बाद दो परीक्षा देनी होती है, एक लिखित परीक्षा और interview exam देना होता है 

जिसमें आपको qualify करना होता है और इसके साथ साथ physical test भी लिया जाता है।

लिखित परीक्षा में 200 marks का exam होता है और यह परीक्षा 2 घण्टे कि होती है।


RTO कि कितनी Salary होती है

RTO में job करने के बाद आपको बहुत ही अच्छी खांसी  salary दि जाती है। 

दोस्तों कोई भी व्यक्ति हो कैसी भी job करने से पहले salary पता होना चाहिए क्योंकि हम सभी चाहते हैं की हमे जो भी salary मिलै और उससे हमारा घर परिवार का खर्चा आसानी से चल जाए।

दोस्तों RTO में job करने से 20,000 से लेकर 50,000 तक कि salary मिलती है।


RTO के Others Full Form क्या होते है

दोस्तों यहां पर बता दुं की RTO का कोई एक फुल फार्म नहीं होता है बल्कि RTO के कई सारे full form होता है तो यहां पर कई सारे RTO long form दिया गया है जोकि अलग अलग category के हिसाब से उपयोग में लाया जाता है।


RTO Full Form Name

   RTO:-  Round-trip Time Out

   RTO:-  Real-time Oscillograph

   RTO:-  Responsible Test Organization

   RTO:-  Rent-to-own

   RTO:-  Refuse To Obey

   RTO:-  Regional Transport Office

   RTO:-  Recovery Time Objective

   RTO:-  Regenerative Thermal Oxidizer

   RTO:-  Return To One

   RTO:-  Radio Telephone Operator

   RTO:-  Retransmission Time Out

   RTO:-  Reverse Take Over

   RTO:-  Real-Time Output

   RTO:-  Reverse Takeover


Conclusion

दोस्तों यहां पर मैंने आज आप लोगों को full form of rto in hindi और RTO meaning in Hindi के बारे में पुरी details के साथ जानकारी दि गई है। 

अगर दोस्तों आप लोगों को यह article पसंद आया है तो आप अपने दोस्तों के साथ share जरूर करें जिससे की आपके दोस्तों को भी  full form of rto in hindi के बारे में पता चल जाए।

आगर आपके अन्दर RTO से जुड़े ऐसा कोई भी जानकारी अधुरा रह गई तो आप यहां पर comment कर सकते हो।

Leave a Comment